in

जिला स्तरीय ग्रीष्मोत्सव घुमारवीं 2021 का आयोजन 05 अप्रैल से 09 अप्रैल 2021 तक किया जाएगा

# शेयर करें..

Read in :

घुमारवीं।

जिला स्तरीय ग्रीष्मोत्सव घुमारवीं 2021 का आयोजन 05 अप्रैल से 09 अप्रैल 2021 तक किया जाएगा यह जानकारी ग्रीष्मोत्सव घुमारवीं के सफल आयोजन और मेले से संबधित अन्य गतिविधियों पर व्यापक चर्चा के लिए आयोजित प्रथम वैठक की अध्यक्षता करते हुए मेला कमेटी अध्यक्ष एवं एस डी एम घुमारवीं शशीपाल शर्मा ने दी, बैठक का आयोजन नगर परिषद घुमारवीं के रैन बसेरा में किया गया।

इस अवसर पर मेला कमेटी अध्यक्ष ने कहा कि ग्रीष्मोत्सव घुमारवीं का इंतजार क्षेत्र की जनता को वर्ष भर से रहता है और स्थानिय लोगों अपनी कला के प्रर्दशन करने का और अपने व्यापार को बढाने का मौका मिलता है और मेले में स्थानियों लोगों की सहभागिता भी होती है हालांकि कोविड़-19 के बारे में सरकार के निदेर्शों का पालन करते हुए ही सभी गतिविधियों का आयोजन किया जाएगा।

उन्होने बताया कि मेले का प्रारम्भ पूर्व की भांति 05 अप्रैल को शिव मंदिर घुमारवीं से मेला मैदान तक शोभायात्रा निकाल कर तथा मेला स्थल पर विधिवत वैलो का पूजन कर खुण्टी गाड कर किया जाएगा।

उन्होने कहा कि कुश्तिया ग्रीष्मोंत्सव का मुख्य आकर्षण है कुश्तियों का आयोजन 08 अप्रैल से 09 अप्रैल तक किया जाएगा और बिलासपुर कुमार, हिमाचल कुमार, मुख्य कुश्तियां भी आयोजित की जाएगी।

उन्होने बताया कि कुश्तियों के आयोजन में गत वर्ष की अपेक्षा अधिक धन खर्च करने के प्रयास किए जाएगें ताकि मेले के मुख्या आकर्षण को और अधिक मनोंरजक बनाया जा सके। उन्होने बताया कि मेले में वेवी शो, वजुर्ग शो, खेल कूद प्रतियोगितांओं के अतिरिक्त पशु मेले का आयोजन भी किया जाएगा और पशु मेले मेें पशुओ के मुकावले भी करवाए जांएगें।

उन्होने इन आयोजनो से सबंधित समितियों के सयोंजको से आग्रह किया गया कि समयपूर्व बैठक कर रूपरेखा तैयार करें। उन्होने कहा कि वेवी शो और वजुर्ग शों का आयोजन स्वास्थ्य विभाग द्वारा लिए गए निर्णय पर आधारित होगा क्योेंकि इन प्रतियोगिताओं में भाग लेने बाले प्रतिभागी कोविड़-19 संक्रमण के प्रति अधिक असुरक्षित है।

उन्होने कहा कि ग्रीष्मोत्सव के दौरान रात्री सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन भी किया जाएगा जिसमें हर वर्ग के मनोरजंन का विशेष ध्यान रखा जाएगा। उन्होने बताया कि मेले में विभिन्न विभागो की प्रदर्शनिया भी लगाई जाएगी जिनमें स्थानीय स्तर पर उगाए जाने वाले उत्पादों को प्रदर्शित किया जाएगा ताकि आमजनता इन्हे देखकर प्रेरित व प्रोत्साहित होकर इन उत्पादों की खेती करके अपनी आर्थिकी को सुदृड़ कर सके।

उन्होने कहा कि मेले में प्रधानमंत्री के वोकल फार लोकल के आहवान का अनुसरण करते हुए मेले में ऐसे स्थानीय लोग जो अपनी कला का प्रयोग करते हुए लोकल उत्पादों व स्थानिय खाद्य व्यंजनों का व्यवसाय करगें ऐसे लोगों में प्रथम, द्वितीया, तृतीया स्थान पर रहने बाले व्यवसाईयों को प्रोत्साहन राशी प्रदान कर समान्नित किया जाएगा ताकि अधिक से अधिक स्थानीय निवासी व युवा इनसे प्रेरणा लेकर अपना कोई लोकल स्तर पर किया जाने बाला व्यवसाय अपनाकर स्वावलम्वीं बन सकें और दूसरो को भी रोजगार देने बाले बनें।

उन्होने नगर परिषद घुमारवीं को मेले के दौरान सफाई व्यवस्था को सुचारू बनाए रखने सहित मेला स्थल पर अस्थाई मोवाईल शौचालय स्थापित करने के निर्देश दिये ताकि लोगो को सुविधा मिल सके। बैठक में मेला कमेटी अध्यक्ष ने सभी विभागों से मेले के आयोजन के लिए अधिक से अधिक धन इकत्रित करने का आहवान किया।

इस अवसर पर नगर परिषद की अध्यक्षा रीता सहगल, जिला परिषद सदस्य वेली राम टैगोर, नगर परिषद उपाध्यक्ष श्याम लाल, पार्षद राकेश, कपिल शर्मा ,शहरी इकाई अध्यक्ष कर्म चंद, विभिन्न विभागों के अधिकारीयों व कर्मचारीयों सहित मेले से संबधित विभिन्न समितियो व उपसमितियों के सदस्य उपस्थित रहे।

वाक्स- मेला कमेटी अध्यक्ष एव उपमण्डाधिकारी (ना.) शशी पाल शर्मा ने कहा कि मेले की सम्पूर्ण गतिविधियां का आयोजन सरकार द्वारा जारी कोविड -19 को प्रोटोकोल के अनुसार ही होगा।

आप इस बारे में क्या विचार हैं? अपनी राय देने के लिए यहाँ क्लिक करे

What do you think?

Leave a Reply

जानिये शनिवार के दिन क्या खरीदना शुभ है या अशुभ

मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने पेश किया बजट