in , , , , , ,

बिलासपुर : आश्विन नवरात्र 2021 के सफल आयोजन हेतू बैठक आयोजित

बिलासपुर।

उत्तर भारत के प्रसिद्ध शक्ति पीठ श्री नैनादेवी जी मेें 7 अक्तूबर से 15 अक्तूबर तक आयोजित होने वाले आश्विन नवरात्रि में श्रद्धालुओं के दर्शनार्थ को लेकर किए जाने वाले आवश्यक प्रबंधों को लेकर उपायुक्त एवं आयुक्त मंदिर न्यास श्री नैना देवी जी पंकज राय की अध्यक्षता में बैठक का आयोजन किया गया, जिसमें सम्बन्धित विभागों के सभी अधिकारियों ने भाग लिया।

बैठक में एसडीएम स्वारघाट मेला अधिकारी तथा डीएसपी श्री नैना देवी जी को पुलिस मेला अधिकारी नियुक्त किया गया है। उपायुक्त ने कहा कि 7 अक्तूबर से 15 अक्तूबी तक श्री नैना देवी जी में आयोजित किए जाने वाले आश्विन नवरात्रों के दौरान श्रद्धालुओं को माता के दर्शन के लिए रेपिड एटिजन टैस्ट की नेगेटिव रिपोर्ट अथवा आरटीपीसीआर की नेगेटिव रिपोर्ट लाना या दोनों कोविड रोधी वैक्सिन लगी होनी अनिवार्य किया गया है।

उन्होंने अधिकारियों को कहा कि इस दौरान सभी कर्तव्य निष्ठा व तालमेल के साथ अपनी डयूटी का निर्वहन कर आश्विन नवरात्रि को सफल बनाने में अपना महत्वपूर्ण सहयोग प्रदान करें।

उन्होंने कहा कि आश्विन नवरात्रि के दौरान श्री नैना देवी जी क्षेत्र को नौ सैक्टरों में विभाजित किया जाएगा जिसमें 5 सैक्टर मैजिस्ट्रेट नियुक्त किए जाएंगे। उन्होंने डीएसपी श्री नैनादेवी को आश्विन नवरात्रि के दौरान कानून व्यवस्था को सुचारू रूप से बनाए रखने के लिए पूरा मेला क्षेत्र में पर्याप्त पुलिस बल, होमगार्ड की सेवाएं लेने के निर्देश दिए ताकि श्रद्धालुओं को किसी प्रकार की असुविधा का सामना न करना पडे़।

उन्होंने कहा कि इस दौरान यातायात को नियंत्रित करने के लिए पर्याप्त स्टाफ नियुक्त किया जाएगा और श्रद्धालुओं की बसों को टोबा तक आने की ही अनुमति दी जाएगी। उन्होंने कहा कि नवरात्र के दौरान बिना मास्क के श्रद्धालुओं को माता के दर्शन की अनुमति नहीं दी जाएगी।

उन्होंने कार्यकारी अधिकारी नगर परिषद को निर्देश दिए गए कि मेले के दौरान नगर परिषद तथा निजी पार्किंगों में रेट लिस्ट लगाना सुनिश्चित करें। उन्होंने सभी अधिकारियों को निर्देश दिए कि वे 15 अक्तूबर तक आश्विन नवरात्रि में डयूटी के लिए कर्मचारियों की लिस्ट शीघ्र मंदिर अधिकारी के कार्यालय में उपलब्ध करवाएं ताकि ऐसे कर्मचारियों के ठहरने की व्यवस्था की जा सके। इसी प्रकार नगर परिषद सफाई व्यवस्था को सुनिश्चित बनाऐं तथा पूरे क्षेत्र की सफाई करना सुनिश्चित करेगी। उन्होने कहा कि इस दौरान प्लास्टिक प्रयोग पर पूर्णतया प्रतिबन्ध रहेगा।

उन्होंने खाद्य एवं आपूर्ति विभाग को खाद्य वस्तुओं का पूर्ण भंडारण तथा उनकी गुणवत्ता का निरीक्षण सुनिश्चित बनाने के निर्देश दिए। उन्होने स्वास्थ्य विभाग से कहा कि श्रद्धालुओं को स्वास्थ्य की बेहतर सुविधा उपलब्ध करवाने के लिए वे स्थापित किए जाने वाले स्वास्थ्य सहायता कक्षों में पर्याप्त मात्रा में दवाईयों का भंडारण, आॅक्सीजन सिलेंडर इत्यादि उपकरणों की उपलब्धता सुनिश्चित करें। इसके अतिरिक्त चिकित्सक, फार्मासिस्ट की तैनाती को सुनिश्चित बनाएं। उन्होने मेले के दौरान पेयजल व्यवस्था को सुचारू बनाने के लिए जल शक्ति विभाग के अधिकारियों को जल भण्डारणों को स्वच्छ तथा क्लोरिनेशन करने के साथ-साथ मेले से पहले तथा नवरात्र के दौरान पानी की शुद्धता की जांच सुनिश्चित करने के निर्देश दिए।

उन्होने मंदिर अधिकारी को निर्देश दिए कि वह मेले में आने वाले श्रद्धालुओं के लिए महत्वपूर्ण स्थानों पर साईनेज लगाएं जाएं ताकि श्रद्धालुओं को किसी प्रकार की परेशानी का सामना न करना पड़े। उन्होंने कहा कि इस दौरान शादी और मुंडन संस्कार की अनुमति नहीं होगी मंिदर के अंदर केवल सूखा प्रसाद ही चढ़ाया जाएगा तथा नारियल और हलवा चढ़ाने व बेचने पर पूर्ण प्रतिबंध रहेगा। उन्होंने आग से बचाव हेतु होम गार्ड विभाग के अधिकारियों को समस्त अग्निशमन यंत्रों का निरीक्षण करने के निर्देश दिए।

उन्होंने रोप वे और विद्युत विभाग को सभी भवनों का सुरक्षा आॅडिट करवाकर उसका प्रमाण पत्र मेला अधिकारी के कार्यालय में जमा करने के निर्देश दिए। इस अवसर पर सहायक पुलिस अधीक्षक, एसडीएम स्वारघाट योगराज धीमान, एसडीएम सदर सुभाष गौतम, मंदिर अधिकारी श्री नैना देवी जी विजय कुमार, एसडीओ मंदिर न्यास प्रेम कुमार, ईओ प्रतिभा चैहान, डीएफएससी. विजेन्द्र पठानिया के अतिरिक्त गैर सरकारी सदस्य तथा सम्बन्धित विभागों के अधिकारी भी उपस्थित रहे।

आप इस बारे में क्या विचार हैं? अपनी राय देने के लिए यहाँ क्लिक करे

प्रातिक्रिया दे

मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने शिकारी माता मंदिर में पहुंचकर अपनी कुलदेवी के दर्शन किए

बिलासपुर : दधोल-लदरौर सड़क के अपग्रेडेशन कार्य की समीक्षा बैठक आयोजित